Breaking News :

लिंक्डइन ने जारी रिपोर्ट में कहा, भारत में lockdown के दौरान महिला कर्मचारियों का भागीदारी बढ़ी, वर्क फ्रॉम होम का मिला फायदा

लिंक्डइन ने जारी रिपोर्ट में कहा, भारत में lockdown के दौरान महिला कर्मचारियों का भागीदारी बढ़ी, वर्क फ्रॉम होम का मिला फायदा

मिली जानकारी के अनुसार, लिंक्डइन की एक रिपोर्ट में यह कहा गया है कि मार्च के आखिर में पूरे देश में लागू किए गए कोरोना वायरस संकट के कारण लॉक डाउन के दौरान भारत में महिला कर्मचारियों की भागीदारी बड़ी मात्रा में रही है।

रिपोर्ट के अनुसार, महिला कर्मचारियों की हिस्सेदारी अप्रैल में करीब 30 फीसद से बढ़कर जुलाई के अंत में 37 फीसद हो गई। लिंक्डइन द्वारा अपनी रिपोर्ट ‘लेबर मार्केट अपडेट’ का दूसरा संस्करण जारी किया गया है।

इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत में नौकरियों के लिए भर्तियां जारी हैं और लैंगिक समानता में भी सुधार हुआ है। लिंक्डइन की रिपोर्ट के अनुसार, जून के मुकाबले जुलाई महीने में नियुक्तियां 25 फीसद अंक बढ़ गईं। साथ ही रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर की आशंका से जोखिम अभी भी बना हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार, कमजोर आर्थिक दृष्टिकोण के कारण आगे सुधार प्रभावित हो सकता है।वैश्विक रूप से देखें, तो कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किये गए लॉकडाउन के उपायों का महिला कर्मचारियों की भागीदारी पर काफी अधिक प्रभाव पड़ा है।

लिंक्डइन के वैश्विक विश्लेषण से पता चला है कि कई विकसित देशों में महिलाओं को काम पर रखने ने 2020 में यू-आकार के प्रक्षेपवक्र का पालन किया, जो जून और जुलाई में ठीक होने से पहले अप्रैल में गिरता है। हालांकि, भारत ने लिंग समानता को बनाए रखने और यहां तक कि इसमें वृद्धि करने में भी सफलता पायी है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में, वर्क फ्रॉम होम से निश्चित रूप से लिंग समानता में वृद्धि हुई है और साथ ही प्रमुख क्षेत्रों में महिला प्रतिनिधित्व में भी वृद्धि हुई है।

लिंक्डइन में आर्थिक ग्राफ टीम के एपीएसी मुख्य अर्थशास्त्री Pei Ying Chua ने कहा, 'लॉकडाउन ने लचीले काम के घंटों द्वारा समर्थित वर्क फ्रॉम होम की स्वीकृति को बढ़ावा दिया, इससे महिलाओं के लिए अपने करियर का पुनर्निर्माण करने और इसे नए सिरे से शुरू करने के अवसर बढ़े हैं।'

Related News

sidebar-banner2.jpg

Leave a comment

Please login to post comments
Login

0 Comments