Breaking News :

सरकार की इस योजना से मिल सकता है लाभ जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

सरकार की इस योजना से मिल सकता है लाभ जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के चलते देश एक बार फिर संपूर्ण लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है. ऐसे में बहुत से लोग जीरों बैलेंस वाला जन-धन खाता खुलवाने के लिए बैंकों में जा रहे हैं, क्योंकि उन्हें उम्मीद है कि पिछले साल की तरह इस बार भी केंद्र सरकार इन खातों में 500-500 रुपये राहत के तौर पर डाल सकती है.अगर आप अभी तक जनधन अकाउंट से नहीं जुड़े हैं या आपके पास कोई पहले से ही बैंक में सामान्य सेविंग अकाउंट है, तो आप इसे जनधन अकाउंट में बदलवा सकते हैं. इसका प्रोसेस बेहद आसान है. इसके लिए आपको क्या करना होगा, इसके फायदे क्या हैं, आइए जानते है. बैंक नियमों के अनुसार, कस्टमर्स अपने सेविंग अकाउंट को जनधन खाते  में बदलवा सकते हैं. इसके लिए कस्टमर्स को अपने बैंक में जाना होगा. बैंक पहुंचकर आपको सबसे पहले रुपे कार्ड  के लिए आवेदन करना होगा. इसके लिए निर्धारित फॉर्म भरकर बैंक में जमा करना होगा. जब ये फॉर्म स्वीकृत हो जाएगा तो आपका सेविंग अकाउंट जनधन खाते में बदल जाएगा.

खाते में मिनिमम बैलेंस रखने का झंझट नहीं.
सेविंग अकाउंट जितना मिलता रहेगा ब्याज.
मोबाइल बैंकिंग की सुविधा भी रहेगी फ्री.हर यूजर्स को 2 लाख रुपए तक दुर्घटना बीमा कवर.10 हजार रुपये तक की ओवरड्रॉफ्ट सुविधा.30,000 रुपये तक का लाइफ कवर. हालांकि यह लाभार्थी की मृत्यु पर योग्यता शर्तें पूरी होने पर मिलता है.कैश निकालने और शॉपिंग के लिए रुपे कार्ड मिलता है.कई सरकारी योजनाओं के पैसे सीधा खाते में आएंगे. बीमा, पेंशन प्रोडक्ट्स खरीदना आसान हो जाएगा.देशभर में आसानी से कर सकेंगे मनी ट्रांसफर.पीएम किसान और श्रमयोगी मानधन जैसी योजनाओं में पेंशन के लिए खाता खुल जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2015 में यानी आज से करीब 6 साल पहले जनधन योजना शुरू की थी. इसे खासकर निम्न आय वाले वर्ग यानी कमजोर तबके को ध्‍यान में रखकर शुरू किया गया था, ताकि वे जीरो बैलेंस में अकाउंट्स खोल सकें. भारत में रहने वाला कोई भी नागरिक, जिसकी उम्र 10 वर्ष या उससे ज्यादा है, जनधन खाता खुलवा सकता है. मीडिया रिपेार्ट्स के मुताबिक, अब तक इस योजना के अंतर्गत 40 करोड़ से अधिक खाते खुल चुके हैं.

Related News

IMG-20210317-WA0023.jpg

Leave a comment

Please login to post comments
Login

0 Comments