Breaking News :

फार्मेसी कोर्स की बढ़ेंगी 10 फीसद सीटें, प्रवेश की भीड़ हुई कम

फार्मेसी कोर्स की बढ़ेंगी 10 फीसद सीटें, प्रवेश की भीड़ हुई कम

यदि आप फार्मेसी का डिप्लोमा करना चाहते हैं और सीटों की कमी को लेकर परेशान हैं तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से 5876 सीटोें की वृद्धि का फैसला किया गया है। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की ओर से आयोजित परीक्षा के आधार पर फार्मेसी डिप्लाेमा के लिए प्रवेश होता है।

कोरोना संक्रमण काल के चलते परीक्षा में आवेदन के मुकाबले मात्र 54 फीसद ही परीक्षार्थी शामिल हुए थे। ऐसे में वंचित छात्रों काे सीधे प्रवेश लेेने का अवसर भी मिलेगा और प्रवेश की मारामारी भी कम होगी।

28 सितंबर को परीक्षा परिणाम आने के साथ ही काउंसिलिंग शुरु हो गई है। हर वर्ष सीटों के मुकाबले तीन से चार गुना अभ्यर्थी काउंसिलिंग में हिस्सा लेते थे। सीट कम होने से हजारों छात्र प्रवेश से वंचित रह जाते थे। सीटें बढ़ने से निजी संस्थानों काे फायदा  प्रवेश परीक्षा परिषद सचिव एसके वैश्य ने बताया कि इस बार अनुमान से कम अभ्यर्थियोें ने परीक्षा दी है।

ए ग्रुप के बाद सबसे अधिक मारामारी फार्मेसी में रहती है। पंजीयन भी ए-ग्रुप के बाद सबसे ज्यादा फर्मेसी के ग्रुप-ई मेें परीक्षार्थी शामिल हुए,बावजूद इसके सीटों के अभ्यर्थियोें की संख्या कम है। वहीं काउंसिल ने सभी संस्थानों में कुल सीटों का 10 फीसद सीटें बढ़ाने का निर्णय लिया है।

परिषद की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक फार्मेसी ग्रुप में 66,306 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था और 42881 परीक्षा में शामिल हुए। सूबे की फार्मेसी संस्थानों में कुल 58758 सीटों के लिए 37892 अभ्यर्थी योग्य पाए गए हैं। 10 फीसद सीटोें की बढ़ोतरी से सीधे प्रवेश लेेने वालों को फायदा होगा।

Related News

sidebar-banner2.jpg

Leave a comment

Please login to post comments
Login

0 Comments